HDFC बैंक ने अपने नियमों में किया बड़ा बदलाव, ग्राहकों की जेब पर और बढ़ेगा खर्च

HDFC बैंक ने अपने नियमों में किया बड़ा बदलाव, ग्राहकों की जेब पर और बढ़ेगा खर्च

HDFC Loan Rate: HDFC Bank के ग्राहकों के लिए एक बुरी खबर है. प्राइवेट सेक्टर के बैंक HDFC ने आज से अपने कुछ नियमों में बदलाव किया है जो कि ग्राहकों के लिए बड़ा पहाड़ बन सकता है. लोन लेने वाले ग्राहकों के लिए अब MCLR दरों में बढ़ोतरी की गई है. सभी अवधि के लिए लोन लेने वाले ग्राहकों पर MCLR की नई दरें लागू होगी जो 7 सितंबर से लागू हो चुकी है. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि MCLR रेट्स में 10 फीसदी का बढ़ावा किया गया है.

सभी अवधि के लोन हुए महंगे

MCLR रेट्स में बढ़ोतरी होने से नए और पुराने सभी लोन महंगे हो गए है. इसमें होम लोन, ऑटो लोन और कार लोन शामिल है. MCLR रेट्स में इजाफा होने से एक साल के लिए नई दरें 8.2 फीसदी हो गई है. इसके साथ ही ओवरनाइट दरें भी बढ़कर 7.9 फीसदी तक पहुंच गई है.

हर अवधि के लिए लोन रेट्स

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि MCLR की दर एक महीने की अवधि के लिए 7.90 फीसदी, तीन महीने की अवधि के लिए 7.95 फीसदी और छः महीने की अवधि के 8.05 फीसदी होगी.

HDFC Loan Rate

आपको बता दें कि HDFC बैंक ने पिछले महीने भी अपनी MCLR रेट्स में कुछ 5-10 बेसिल पॉइंट की बढ़ोतरी की थी.

MCLR रेट्स होती क्या है?

जिन लोगो के MCLR रेट्स के बारे में नही पता हम उन्हें बता दें कि वर्तमान समय में फ्लोटिंग रेट्स वाले सभी लोन MCLR या फिर एक्सटर्नल बेंचमार्क लेंडिंग रेट से जुड़े हुए होते है. MCLR की शुरुआत साल 2016 में ही हो गई थी. जिसके बाद रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के निर्देशानुसार व्यापारिक बैंक अब बेस रेट की जगह MCLR (मार्जिनल कॉस्ट ऑफ फंड बेस्ट लेंडिंग रेट) के आधार पर ग्राहकों को लोन देते है.

Durga Pratap

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *