प्रियंका चोपड़ा पति निक जोनास की इस बीमारी के कारण है परेशान, डॉक्टर के पास भी नहीं है इलाज

प्रियंका चोपड़ा पति निक जोनास की इस बीमारी के कारण है परेशान, डॉक्टर के पास भी नहीं है इलाज

अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा इन दिनों पति निक जोनास के साथ अपने रिलेशनशिप को लेकर सुर्खियों में हैं। दरअसल, प्रियंका ने इंस्टाग्राम से पति निक का सरनेम हटा लिया इसके बाद से ही दोनों के तलाक को लेकर कयास लगाए जा रहा हैं।दिलचस्प बात ये है कि इसके कुछ दिन पहले ही निक जोनास ने इंस्टाग्राम पर ही अपनी गंभीर बीमारी के बारे में राज खोला था, जिसका इलाज डॉक्टर के पास भी नहीं है।

निक जोनास ने बताया था कि 16 साल पहले उन्हें अपनी टाइप-1 डायबिटीज के बारे में पता चला था। जिस से लड़ने में उनके सपोर्ट सिस्टम ने उनकी मदद की।इस पोस्ट पर उनकी पत्नी प्रियंका चोपड़ा ने प्यार और तारीफ वाली इमोजी से रिएक्ट किया था।

निक जोनास ने नेशनल डायबिटीज मंथ के मौके पर ऑफिशियल इंस्टाग्राम अकाउंट के जरिए खुद के डायबिटीज से पीड़ित होने को लेकर खुलासा किया था। वहीं प्रियंका चोपड़ा ने भी एक इंटरव्यू में निक के डायबिटिक होने और इसकी गंभीरता के बारे में बताया था।

लोगों में डायबिटीज को लेकर जागरूकता फैलाने के लिए निक जोनास ने इसके बारे में बात करने का फैसला किया। अमेरिकन सिंगर ने अपने अनुभवों को शेयर करते हुए बताया कि शुरुआत में वह इससे काफी परेशान थे। लेकिन, धीरे-धीरे उन्होंने इसे मैनेज करना सीख लिया। अब जाकर वह क्वालिटी लाइफ जी रहे हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, डायबिटीज के चलते एक समय पर निक के कोमा में जाने की नौबत आ गई थी। निक के मुताबिक, पत्नी प्रियंका चोपड़ा की वजह से अब वह काफी हद तक इससे निजात पाने में सक्षम हो चुके हैं। निक ने अपने पोस्ट में बताया कि डायबिटीज से लड़ते उन्हें 16 साल हो चुके हैं। वह 13 साल के थे, जब अपने भाइयों के साथ खेलते हुए उन्हें एहसास हुआ कि कुछ ठीक नहीं है। जब उनके पैरेंट्स उन्हें डॉक्टर के पास लेकर गए तो उन्हें पता चला कि मुझे टाइप 1 डायबिटीज है।

Priyanka Chopra Leaves Husband Nick Jonas Behind In Terms Of Earning | पति  Nick Jonas को कमाई के मामले में पछाड़ देती हैं Priyanka Chopra, आलीशान घर  और लग्जरी गाड़ियों की हैं

बता दें टाइप 1 डायबिटीज एक ऐसी स्थिति है, जिसमें पैन्क्रियाज इंसुलिन का उत्पादन कम या ना के बराबर कर देता है। कम उम्र में इसका शिकार हो जाना एक तरह का जेनेटिक डिसऑर्डर है। यह एक क्रॉनिक कंडीशन है, जिसके चलते व्यक्ति को जिंदगी भर इसकी दवाएं लेनी पड़ती हैं।

Shilpi Soni

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *