तारीख पर तारीख…लेकिन आर्यन अब भी जेल के अंदर, अब इस बड़े वकील का शाहरुख ने लिया सहारा

तारीख पर तारीख…लेकिन आर्यन अब भी जेल के अंदर, अब इस बड़े वकील का शाहरुख ने लिया सहारा

क्रूज पार्टी ड्रग्स केस में जेल की हवा खा रहे शाहरुख खान के बेटे के लिए इन दिनों कुछ अच्छा नहीं हो रहा है। पापा शाहरुख जो भी वकील लेकर आते हैं। कोर्ट उनकी दलीलों को खारिज कर देता है। आर्यन खान केस में पहले तो लग रहा था कि शाहरुख के पैसे और शोहरत के आगे जल्द ही कानून के शिकंजे से आर्यन को आजादी मिल जाएगी। लेकिन जिस तरह से दिन बीत रहे हैं उसे देखने के बाद अब लगने लगा है कि NCB इस मामले में आर्यन खान को एक बड़ी कड़ी के तौर पर कोर्ट में पेश कर रही है। जो भी दलीलें आर्यन के लिए वकील रखते हैं वो कोर्ट अनसुना कर रहा है। यानी के एनसीबी का पक्ष हमेशा आर्यन पर भारी पड़ा है। साथ ही साथ जिस तरह की जांच में टीम आगे बढ़ रही है उसे देखने के बाद अब ये भी साफ हो चला है कि जल्द ही मामले में कई सेलिब्रिटीज के चेहरों से नाकाब उतरेंगे। बावजूद इसके शाहरुख खान अपने बेटे को जेल से बाहर लाने के लिए पानी की तरह पैसा बहा रहे हैं। शाहरुख खान ने आर्यन को जमानत दिलाने के लिए पहले सतीश मानशिंदे और फिर अमित देसाई को रखा । इन दोनों ने मिलकर आर्यन को जमानत दिलाने की भरपूर कोशिश की । लेकिन जज का फैसला अटल रहा।


3 हफ्तों से जेल में बंद आर्यन को छुड़ाने के लिए अब शाहरुख ने तीसरा वकील किया है। ये तीसरे वकील और कोई नहीं बल्कि पूर्व अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी हैं। मुकुल रोहतगी अपने तेज तर्रार वकालत के लिए जाने जाते हैं। शाहरुख को मुकुल ने भरोसा दिलाया है कि इस बार उनकी मन्नत जरुर पूरी होगी औऱ शाहरुख के बंगले में बेटे आर्यन दीवाली के दीये जलाएंगे।

 

कौन हैं मुकुल रोहतगी ?

आपमें से कुछ लोग मुकुल रोहतगी के बारे में पहले से जानते होंगे तो कुछ को शाहरुख खान के बेटे वाले मामले में नाम जुड़ने के बाद मुकुल के बारे में जानकारी हाथ लगी होगी। मुकुल को 19 जून 2014 को देश के तत्‍कालीन राष्‍ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने देश का अटॉर्नी जनरल बनाया था. मुकुल 18 जून 2017 तक देश के 14वें अटॉर्नी जनरल के पद पर थे। मुकुल रोहतगी सुप्रीम कोर्ट के वरिष्‍ठ और देश के दिग्‍गज वकील हैं। ऐसा कहा जाता है कि मुकुल एक सुनवाई के लिए करीब 10 लाख रुपए चार्ज करते हैं। महाराष्ट्र सरकार ने RTI के जवाब में मुकुल रोहतगी की फीस के बारे में जानकारी दी थी। सरकार के मुताबिक जस्टीस बीएस लोया केस मामले में राज्य सरकार की तरफ से पैरवी करने के लिए मुकुल रोहतगी को करीब 1 करोड़ 21 लाख रुपए की फीस अदा की गई थी।

 

”पैसा नहीं बेटा चाहिए”

लेकिन सभी जानते हैं कि इस वक्त शाहरुख के लिए मुकुल रोहतगी की फीस नहीं बल्कि उनका बेटा ज्यादा जरुरी है। क्योंकि मुकुल को भारी भरकम फीस देकर शाहरुख सिर्फ अपने बेटे को जेल से बाहर लाना चाहते हैं। आपको बता दें कि शाहरुख ने आर्यन के जेल जाने के बाद से किसी भी प्रोजेक्ट का काम शुरु नहीं किया है। वो अपनी पत्नी के साथ सिर्फ बेटे आर्यन को जेल से बाहर निकालने की कोशिशों में लगे रहते हैं। वहीं आर्यन केस की जांच कर रहे समीर वानखेड़े पर महाराष्ट्र सरकार के मंत्री के आरोपों के बाद ऐसा माना जाने लगा है कि समीर वानखेड़े की जांच को कोर्ट शक की निगाह से देखेगा और आर्यन को जमानत पर छोड़ेगा।

Deepak Pandey

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *