पाकिस्तान का समर्थन करने वाली स्कूल टीचर गिरफ्तार, निलंबन के बाद य़ाद आई देशभक्ति

पाकिस्तान का समर्थन करने वाली स्कूल टीचर गिरफ्तार, निलंबन के बाद य़ाद आई देशभक्ति

पाकिस्तान से हारने के बाद टीम इंडिया की फजीहत हो रही है। पूरी टीम को ही अलग-अलग सोशल मीडिया में ट्रोलिंग का सामना करना पड़ रहा है। इसी बीच हिंदुस्तान में भी पाकिस्तान की जीत का जश्न कई लोगों ने मनाया। कुछ हिंदुस्तानियों के लिए ये बात काफी दर्द देने वाली थी.कि जीत के बाद पड़ोसी मुल्क जो कि हमारे जवानों पर कायराना तरीके से हमला कर रहा है हिंदुस्तान में रहने वाले लोग उसका समर्थन कर रहे हैं। इस समर्थन में कई लोग शामिल थे। लेकिन राजस्थान में एक स्कूल की शिक्षिका ने ऐसा कुछ किया कि उसे नौकरी से हाथ धोनी पड़ी।इसके बाद नफीसा को देशविरोधी गतिविधि करने के आरोप में पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया। हालांकि उन्होंने इसके लिए माफी मांग ली है।

पाकिस्तान का समर्थन करना पड़ा महंगा

24 अक्टूबर की रात शायद ही कोई हिंदुस्तानी भूल पाएगा। क्योंकि इस दिन हमारी भारतीय टीम को पाकिस्तान के हाथों शिकस्त झेलनी पड़ी थी। 1992 से लेकर अभी तक पाकिस्तान को भारत ने आईसीसी के टूर्नामेंट्स में धूल चटाई थी। लेकिन इस बार टीम इंडिया को पाकिस्तान ने 10 विकेट से हराकर ऐतिहासिक जीत दर्ज कर ली। इस दिन हर भारतीय दुखी था। लेकिन राजस्थान की एक स्कूल टीचर को भारत के दुख से ज्यादा पाकिस्तान की जीत की खुशी थी। इस शिक्षिका नफीसा ने पाकिस्तान के जीत के साथ ही लिखा “Jeeeet gayeeee… We wonnn” । इस पर किसी ने पूछ भी लिया – क्या आप पाकिस्तान का समर्थन करती हैं? तो मैडम ने बड़ी शान से जवाब दिया – हाँ। यानी कि उन्होंने ये शब्द पूरे होशों हवास में लिखे थे।

वाट्सअप स्टेटस से गई नौकरी

ये शिक्षिका राजस्थान उदयपुर में नीरजा मोदी स्कूल में काम करती थीं। जिनका पूरा नाम है नफीसा अटारी। इन्होंने अपने वाट्सअप स्टेटस पर पाकिस्तान की जीत को लेकर टिप्पणी की थी। जिसमें लिखा था –“जीत गए, हम जीत गए (Jeeeet gayeeee… We wonnn)” । नफीसा अटारी का व्हाट्सएप स्टेटस और सवाल-जवाब 25 अक्टूबर को सोशल मीडिया में वायरल होने लगा। सोशल मीडिया पर लोगों ने नफीसा से ये पूछना शुरु कर दिया कि कैसे कोई भारत में रहकर यहां की हार पर जश्न मना सकता है।इस न्यूज के वायरल होने के बाद स्कूल प्रबंधन ने भी नफीसा अटारी से सवाल पूछे लेकिन इस हरकत को अटारी के पास कोई जवाब नहीं था। लिहाजा स्कूल प्रबंधन ने देशहित को देखते हुए नफीसा को स्कूल से निष्कासित कर दिया। टीचर नफीसा से कई लोगों ने पूछा कि यदि वो इस तरह की सोच रखती हैं तो कक्षा में बच्चों को किस तरह की तालीम देती होगी।


“नीरजा मोदी स्कूल की अध्यापिका नफीसा अटारी को सोजतिया चैरिटेबल ट्रस्ट की मीटिंग के निर्णय के अनुसार नीरजा मोदी स्कूल तुरंत प्रभाव से निष्कासित कर दिया गया है।”

निष्कासन के बाद नफीसा का दावा

स्कूल से निष्कासन और पूरे समाज में जिल्लत झेलने के बाद नफीसा ने दावा किया कि लोगों ने उनके स्टेटस को गलत तरीके से लिया है. नफीसा के मुताबिक मैच के दौरान उनका परिवार दो गुटों में बंट गया था। एक इंडिया तो एक ने पाकिस्तान का समर्थन किया। आखिर में जब पाकिस्तान जीती तो नफीसा ने परिवार के लोगों को जलाने के लिए इस तरह का स्टेटस डाला। लेकिन उनके स्टेटस को दूसरे ग्रुप्स में वायरल कर दिया गया। वहीं नफीसा के मुताबिक उनके स्कूल कॉन्टैक्ट के एक नंबर से उन्हें मैसेज आया कि क्या आप पाकिस्तान का समर्थन करती हैं। जिसके आखिर में एक इमोजी था. नफीसा को लगा कि एक मजाक है.इसलिए उन्होंने हां में जवाब दे दिया। लेकिन इसी जवाब को लेकर उनको बुरी तरह से ट्रोल किया गया। वहीं स्कूल से निकाले जाने के बाद नफीसा का दिमाग ठंडा हो गया और उन्हें देशभक्ति याद आ गई। नफीसा के मुताबिक वो सच्ची देशभक्त हैं। और सपने में भी पाकिस्तान का समर्थन नहीं कर सकती।

गिरफ्तारी के बाद मिली जमानत,अब मांगी माफी

टी-20 वर्ल्ड कप में पाकिस्तान की जीत को सेलिब्रेट करने वाली उदयपुर की टीचर नफीसा अटारी ने लोगों से माफी मांगी है। नफीसा ने कहा कि उनका इरादा किसी की भावनायें आहत करने का नहीं था। नफीसा ने लोगों से हाथ जोड़कर माफी मांगते हुये कहा कि अगर किसी को ठेस लगी हो तो मैं माफी मांगती हूं। इस मामले में गिरफ्तार हो चुकी नफीसा को जमानत मिल चुकी है।

Chandan Pandey

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *