आपने फिल्मों में अक्सर देखा होगा कि प्यार अंजाम तक नहीं पहुंचने पर एक्टर और एक्ट्रेस कुंवारे ही जीवन काट देते हैं. बॉलीवुड की 60-70 के दशक की पॉपुलर एक्ट्रेस रहीं आशा पारेख के साथ यह वाकया रियल लाइफ में घट चुका है.

ख़बरों की मानें तो सच्चे प्यार की तलाश में आशा ज़िन्दगी भर कुंवारी ही रह गईं, जबकि एक समय उनकी पॉपुलैरिटी का आलम कुछ ऐसा था कि वो इंडस्ट्री की सबसे महंगी यानी ज्यादा फीस लेने वाली एक्ट्रेस थीं.

ऐसा नहीं था कि एक्ट्रेस को कोई पसंद नहीं था. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, आशा पारेख को शादीशुदा फिल्ममेकर नासिर हुसैन से सच्चा प्यार था. आपको बता दें कि नासिर साहब, एक्टर आमिर खान के अंकल, मशहूर डायरेक्टर रहे मंसूर खान के पिता और एक्टर इमरान खान के दादाजी थे.

अब सवाल उठता है कि आशा पारेख जब नासिर हुसैन से इतनी मोहब्बत करती थीं तो फिर दोनों ने शादी क्यों नहीं की ? तो इस बात का जवाब खुद आशा पारेख ने अपनी बायोग्राफी में दिया है.

आशा पारेख के अनुसार वो किसी गलत इरादे से नासिर हुसैन को नहीं चाहती थीं बल्कि उन्हें नासिर साहब के परिवार से भी बेहद प्यार था. अपनी बायोग्राफी में आशा पारेख लिखती हैं कि वो नहीं चाहती थीं कि दुनिया उन्हें ‘होमब्रेकर’ यानी घर तोड़ने वाली महिला के तौर पर जानें.

यही वजह रही कि ना नासिर साहब कभी आशा पारेख की लाइफ में आ सके और ना ही आशा पारेख किसी अन्य को अपना लाइफ पार्टनर बना सकीं.  आपको बता दें कि आशा पारेख ने अपन समय के सभी बड़े स्टार्स जैसे राजेश खन्ना, मनोज कुमार, सुनील दत्त और धर्मेंद्र आदि के साथ काम किया है.

आशा पारेख को उनकी फिल्मों जैसे कटी पतंग, तीसरी मंजिल, लव इन टोक्यो, आन मिलो सजना, साजन और कारवां जैसी फिल्मों के लिए याद किया जाता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *