फिल्म धरम वीर को रिलीज हुए करीब 44 साल हो चकुे हैं, लेकिन इस फिल्म की चर्चा आज भी होती रहती है और जब इस फिल्म का जिक्र होता है तो उसके गाने पर हुए महिलाओं के विरोध को कोई नहीं भूल पाता.

धर्मेंद्र-जीनत और जितेंद्र-नीतू सिंह की इस फिल्म में चलिए जाने कि वह गाना कौन साथ था और क्यों इसका विरोध हुआ था.बता दे, फिल्म धरम वीर  का म्यूजिक एल्बम जब रिलीज किया गया तो कुछ ही दिनों में महिला संगठनों ने इसका विरोध करना शुरू कर दिया.

बता दे के गाने के दूसरे अंतरे में आनंद बक्शी ने कुछ ऐसा लिख दिया था कि उस समय काफी ज्यादा विवाद खड़ा हो गया था.गाने के अंतरा में ऐसा लिखा था कि यह लड़की है या रेशम की डोर है, कितना गुस्सा है, कितनी मुंह जोर है, ढीला छोड़ ना देना, हंस के रखना दोस्त लगामें कसके, मुश्किल से काबू में आए लड़की हो या घोड़ी.

इसी लाइन लड़की हो या घोड़ी को लेकर उस समय जमकर विवाद हुआ था.गौरतलब है कि उस समय महिला संगठनों ने गाने में महिला की तुलना घोड़ी से करने पर जोरदार विरोध किया था.

विरोध को बढ़ता देख डायरेक्टर मनमोहन देसाई ने आनंद बख्शी से कहकर दूसरी लाइन लिखवाई और फिर से इससे रिकॉर्ड कर रिलीज किया था. इस गाने को धर्मेंद्र जी धर्मेंद्र नीतू सिंह पर शूट किया गया है गाने को आवाज मोहम्मद रफी और मुकेश ने दी थीं.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *